मौसम विभाग से मौसम मजाक कर रहा है

लगता है मौसम और मौसम विभाग में छत्तीस का आंकड़ा है। मौसम विभाग कुछ भविष्यवाणी करता है और मौसम कुछ और गुल खिलाता है। पहले अप्रैल के महीने में मौसम विभाग  ने कहा कि इस बार देश में अच्छी बारिश होगी तो मौसम ने मानसून को ही देश से गायब कर दिया। इधर मौसम विभाग  ने मानसून की समाप्ति की घोषणा की तैयारी की तो अब ऐसी बारिश हो रही है कि भयंकर बाढ़ आ गई है। कर्नाटक, आंध्र और उड़ीसा की बारिश के बारे में मौसम विभाग कोई भविष्यवाणी नहीं कर पाया और जबर्दस्त बारिश ने इन प्रदेशों में बाढ़ कर दी। इधर दिल्ली के आस-पास भी बारिश का मौसम है। क्या मौसम विभाग कुछ बता पायेगा कि क्या होने वाला है।

अब अपनी खिसियाहट मिटाने के लिये हम ये क्यों न कहें कि मौसम विभाग से मौसम मजाक कर रहा है?

विज्ञापन

1 टिप्पणी

  1. मौसम से संबंधित मेरी भविष्‍यवाणीदेखें .. इसके बावजूद ज्‍योतिष का ही मजाक बनाया जाता है !!

    उत्तर देंहटाएं