कुछ भी तो नहीं बदला मध्य युग से अब तक

मध्य युगीन लड़ाकू लोगकल शाम पश्चिम बंगाल में नक्सली समर्थक पुलिस संत्रास प्रतिरोध समिति [पीसीपीए] के माओवादियों ने दुस्साहसिक कार्रवाई करते हुए भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस को अगवा कर लिया और ट्रेन के चालक और सह चालक का अपहरण कर लिया हालांकि बाद में चालक-सह चालक को रिहा करा लिया गया। यह सब देख कर मुझे लगा कि आज के सभ्य समाज में और मध्य युग में क्या कहीं कुछ बदला है? जैसे मध्य युग में होता था वैसै ही आज के युग में भी कोई भी हथियार उठाकर बड़े इलाके पर कब्जा कर लेता है और सरकारों और जनता पर अपना राज चलाने लगता है। प्रभाकरण, वीरप्पन, सलाउद्दीन, हकीमुद्दीन महसूद, बैतुल्लाह मेहसूद, मंगल बाग, हकीमुद्दीन हक्कानी, किशनजी, छत्रधर महतो, मुल्ला उमर जैसे कितने ही आजकल के जमाने में भी हथियार देशों के बड़े इलाकों पर अपना राज चलाते रहते हैं।  पहले जमाने में राजा लोग इस तरह के हथियार उठाने वाले से मुकाबला भी करते थे, लेकिन आज के जमाने में लोकतंत्र में सरकार किसी की अपनी नहीं होती है इसलिये मुकाबला ढंग से नहीं करते बल्कि कई बार उन्हीं से मिल जाते है। कई बार तो संबंधित देशों की सरकारें ही इनको खडा करती हैं बाद में अपने लिये मुसीबत बढ़ा लेती हैं। अब यही कहा जा सकता है  आजकल के जमाने में कुछ नहीं  बदला है बल्कि आज भी कोई अगर अपना गिरोह बना ले तो वो सत्ता पर कब्जा कर सकता है।

एक तरफ तो ऐसे हथियारों के बल पर राज्य पर कब्जा करने वाले लोग हैं वहीं दूसरी ओर आज के जमाने में आम जनता भी उसी दिमागी तौर पर मध्य युगीन हालात में रह रही है। आज ही के समाचार पत्रों मे छपा है कि दिल्ली में अक परिवार ने अपनी ही लड़की को समान गोत्र में शादी करने के कारण बलात्कार करवा कर हत्या कर दी। इस तरह के समाचार रह रह कर सामने आते रहते हैं। इसलिये मुझे आश्चर्य लगता है कि कुछ भी तो नहीं बदला मध्य युग से अब तक।

विज्ञापन

7 टिप्‍पणियां

  1. शिक्षा का आभाव और बेरोजगारी/ गरीबी!

    उत्तर देंहटाएं
  2. जमाना बदला हो, या न बदला हो। उन लोगों की जिंदगी तो और बदतर ही हुई है, जिन्होंने ट्रेन का अपहरण किया था।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जमाना बदला हो, या न बदला हो। उन लोगों की जिंदगी तो और बदतर ही हुई है, जिन्होंने ट्रेन का अपहरण किया था।

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut badal gaya hai wah suddh hava aaj redio tarang se pradusit ho gai hai pani to hai hi nahi pani pradusit hone ki to baat hi nahi thik hai

    उत्तर देंहटाएं
  5. Jin logon ke naam aapne mention kiye hain isi pe arz kiya hai ki " hamne dekha hai kai aise khudaon ko yahaan, Samne jinke vo sachmuch ka khuda kuchh bhi nahin"

    उत्तर देंहटाएं