गूगल पूरा भारतीय हो रहा है – मकर-संक्रांति

ऐसे समय में जब भारतीय लोग पश्चिमी बातों के प्रभाव में अपनी भाषा,  संस्कार और त्यौहरों से दूर होते जा रहे हैं, भारतीयों का अंतर्राष्ट्रीयकरण होता जा रहा है, अपनी दुकाने लेकर भारत आई विदेशी कंपनियां भारत में हिंदी में प्रचार करती हैं और भारतीय त्यौहारों के माध्यम से अपना माल बेचने की कोशिश करती दिखती हैं। इसी का एक उदाहरण है गूगल का मकर संक्रांति को याद रखना और ये भी याद रखना की भारत में कई जगह इस अपसर पर पतंगे उड़ाई जाती हैं। हालांकि पढ़े-लिखे भारती अब अपने बच्चों को पतंग, कंचे, गिल्ली-डंडा खेलने के लिये मना करते हैं। गूगल ने मकर-संक्रांति के अवसर पर अपने भारतीय होम-पेज पर ये पतंगबाजी का चित्र लगाया है जोकि हमें ही याद दिला रहा है कि उठो भारतीयों अपनी ही बातों, संस्कारों को मनाओ और मजे लूटो।

kitefestival2009-hp

इसी अवसर पर मेरे मोबाइल पर आया हुआ एक छोटा संदेश (SMS) :

मीठे गुड़ में मिल गया तिल
उड़ी पतंग और खिल गया दिल ।।
हर पल सुख और हर दिन शान्ति
आपके लिये शुभ मकर संक्रांति ।।


विज्ञापन

4 टिप्‍पणियां

  1. धन्यवाद आपको भी मकर संक्राँति की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर! गूगल को हिन्दी भाषी क्षेत्रों में धंधा करना है। उसे तो यह सब करना ही पड़ेगा।
    आप को मकर संक्रांति की शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. At a time when the Indian people under the influence of Western things, language, culture and are getting away from Tyuhron, globalization is becoming the Indians, came to India with its shops are campaigning in foreign companies in India, Hindi and Indian festivals try to sell their goods through the look. This is an example of how Google keep track of Makar Sankranti in India and also remember that many places on the Apasr Ptnge Udhai are. Although educated - their kids now written Bharti kites, marbles, Gilly - staff refuse to play. Google Makar - on the occasion of Sankranti Indian Home - page pictures of this kite which is applied only to remind us that the Indians get things his own, enjoy and Enjoy values.

    उत्तर देंहटाएं
  4. पतंगे केवल भारत के सर्वर्स पर दिखाई दे रही थीं. लोकलाईजेशन बाज़ार बढ़ाने के लिए ज़रूरी है, चीन के सर्वर्स पर चीनी त्यौहार पर चीनी प्रतीक दिखते हैं. यूरोपियन कम्पनी यूनीलीवर भी इसी रस्ते से भारत के बाज़ार पर कब्ज़ा कर पाई है, पेप्सी और कोक भी.

    उत्तर देंहटाएं