50 साल का हो गया लिज्जत पापड़

महिलाओं को आपसी सहयोग की एक सशक्त मिसाल लिज्जत पापड़ आज 50 साल का हो गया। आज ही के लिज्जत पापड़ दिन 15 मार्च 1959 को कुछ महिलाओं ने आपसी सहयोग से उधार के 80 रूपयों से इसकी शुरआत की थी, जो कि आज 300 करोड़ के कारोबार में तब्दील हो चुका है। लिज्जत पापड़ को भारत के हर घर में कम से कम एक बार तो इस्तेमाल किया ही गया होगा। इसका टीवी पर आने वाला इसका Lijjat Papad विज्ञापन मजेदार कुर्रम कुर्रम पापड़ सबको याद है। महिलाओं द्वारा महिलाओं के लिये चलाये जाने वाली संस्था श्री महिला गृह उद्योग लिज्जत पापड़ बधाई की पात्र हैं और इस बात की मिसाल हैं कि महिलायें अगर ठान लें तो क्या नहीं कर सकतीं। आज इससे 40000 के करीब महिलायें जुडीं हुई हैं और उनको रोजगार मिल रहा है। लिज्जत और अमूल भारत में आपसी सहयोग, सहकारिता के उत्कृष्ट उदाहरण हैं।

लिज्जत पापड़ की संस्था के बारे में अधिक जानने के लिये http://www.lijjat.com पर जाइये।

विज्ञापन

कोई टिप्पणी नहीं