आस्ट्रेलिया क्यों जाते हो, यहां क्या कमी है

विदेश में पढ़ाई आस्ट्रेलिया से भारतीय छात्रों के साथ रंगभेदीय भैदभाव के कारण होने वाले हमले निंदनीय हैं। भूमण्डलीकरण के इस जमाने में एक देश के छात्र दूसरे देशों में जाते रहते हैं। अधिकांश देश दूसरे देशों के छात्रों को अपने विश्वविद्यालयों में पढ़ने के लिये आकर्षित करते रहते हैं जिसके पीछे अपनी साख बढ़ाना तथा संपन्न लोगों से पैसा कमाना भी शामिल है। विभिन्न् देशों और संस्थानों की फैलोशिप जैसे कि कॉमनवैल्थ की योजनाओं की वजह से भी एक दूसरे देशों में लोग पढ़ाई के लिये आते-जाते हैं। अत: ऐसी रंगभेदी घटनायें वहां के लोगों के संकीर्ण रवैये को दर्शाती हैं। आस्ट्रेलिया तो किसी न किसी कारण से भारत से विवाद करता ही रहता है। कभी हिंद महासागर में भारतीय नौसेना को लेकर, कभी क्रिकेट में किसी  विवाद को लेकर, कभी नाभिकीय संस्थानों को यूरेनियम न देकर आदि। मेरे विचार में आस्ट्रेलिया की पढ़ाई भारत की पढ़ाई के मुकाबले बहुत अच्छे स्तर की नहीं हैं। सिर्फ विदेशों मे पढ़ाई करने के नाम पर वहां जाने की बात है वर्ना भारत के शैक्षिक संस्थानों की दक्षता और स्तर ज्यादा अच्छा है और अब तो भारत में प्राइवेट शैक्षिक संस्थान और विश्वविद्यालय भी खुल गये हैं ऐसे में विदेश में पढ़ाई करने जाने की क्या जरुरत है। अपने देश की पढ़ाई करके अपने देश में ही काम करिये।  एक बात और है कि हर देश के लोगों में राष्ट्रीयता की एक भावना होती जो कि कई लोगों में ज्यादा हो जाती और वो किसी विदेशी को अपनी धरती पर तरक्की करते देख खुश नहीं होते। ऐसी भावना हमारे देश में भी है।  अत: बाहर के किसी देश में इस तरह की घटनाओं की संभावना बनी रहती है।

SarkariNaukriBlog com रविवार, 31 मई 2009
कोई रास्ता नहीं

जब से ब्लॉगर पर से हिंदीबात ब्लॉग हटाया गया है तब से कोई भी रास्ता नजर नहीं आ रहा है कि किससे सम्पर्क किया जाये और क्या किया जाये। तमामा जगह साइटों, फोरमों पर घूम ली पर कोई बात बनती नजर नहीं आ रही है। मुझे लगता है कि गूगल का ये सिस्टम बहुत ही खराब है जहां पर अच्छे-खासे चलते हुये ब्लॉग को हटा देते हैं और अपील करने की भी कोई जगह नहीं है। ब्लॉगर पर तमाम तरह की स्पैंम साईटें, पोर्न साइटें और तमाम खराब साइटें चल रही हैं पर उन को न कुछ कहकर सही ब्लॉगरों को परेशान किया जा रहा है। मैने विभिन्न फोरमों पर देखा कि बहुत सारे लोग परेशान हो और उनके वर्षों पुराने ब्लॉग हटा दिये गये हैं वो भी बिना किसी सूचना के। पूरा सिस्टम आटोमैटिक होने कि वजह से गड़बड़ है। देखते हैं क्या होता हैं, फिलहाल तो मैं अब हिंदीबात.कोम पर अब लिखूंगी।

SarkariNaukriBlog com शुक्रवार, 22 मई 2009
अधिकांश ट्रैवल साइटें चोरी की सामग्री से चल रही हैं

कल हम लोगों नें बच्चों की गरमियों को दौरान कुछ पर्यटन स्थलों को भ्रमण के लिये इंटरनेट पर विभिन्न ट्रैवल साइटों से उन स्थानों के बारे में जानकारी लेने की कोशिश की । ऐसे में गूगल के माध्यम से किसी भी स्थान को खोजने पर आने वाली  अधिकांश वेबसाइटों पर वही-वही जानकारी मिली। यहां तक की हर शब्द और वाक्य  सब वही के वही । ऐसा लगता ही गूगल ऐडसेंस का फायदा लेने के लोगों ने पर्यटन वेबसाइटें  खोल रखी हैं और इधर-उधर से जानकारी चुराकर साइट तैयार करके बना दी गई हैं । 1-2 साइटों को छोड़कर किसी भी साइट से कोई नई बात पता नहीं लगी । किसी पर कोई विस्तृत जानकारी नहीं है। बस पर्यटन ब्लॉग ही हैं जिन पर कुछ अलग सी जानकारी है वर्ना अधिकांश ट्रैवल बेवसाइटें किसी भी स्थान की जानकारी के लिये चोरी की सामग्री से चल रही हैं। इस को देखने के लिये आप गूगल में किसी भी स्थान को खोजने को कोशिश करिये और प्रथम 10 परिणामों को ब्राउजर में खोलकर देखिये, दस में से आठ में आप को एक जैसी बात लिखी मिलेगी।

SarkariNaukriBlog com सोमवार, 18 मई 2009
15वीं लोकसभा चुनाव परिणाम – कुछ आंकलन

15वीं लोकसभा चुनावों के परिणाम कल आ चुके हैं और संप्रग को वापस से सरकार बनाने के लिये मतदाताओं द्वारा चुना गया है। आने वाले कई दिनों में राजनीतिक विश्लेषक और राजनीतिज्ञ अपने – अपने विश्लेषण और निष्कर्ष निकालते रहेंगे और ऐसे समय में आम आदमी भी अपने हिसाब से कुछ सोचता है। मेरा भी इन लोकसभा चुनावों के परिणामों को लेकर कुछ आंकलन  है ।
  1. मंहगाई जनता कितनी ही परेशान क्यों न हो, किसी भी चुनाव में मंहगाई को मुद्दा नहीं होती है।
  2. आतंकवाद भी इस देश में कोई मुद्दा नहीं है।
  3. मंदिर-मस्जिद, हिदु-मुस्लिम, मेरी जाति-तेरी जाति और आरक्षण की राजनीति के दिन पूरे हो गये हैं अब लोगों को विकास चाहिये, इसलिये इस बार वो दल अपने-अपने यहां जीत गये जो विकास के नाम की राजनीति कर रहे हैं। अब जनता को विकास चाहिये, जो विकास करेगा वो दुबारा जीतेगा। विकास को भूलकर खाली जातिवादी राजनीति और आरक्षण के झुनझुने पकड़ाने वाले नेता हार गये या फिर हाशिये पर आ गये हैं। 
  4. इंटरनेट द्वारा या बहुत हाई-फाई चुनाव प्रचार किसी काम का नहीं है। जनता चाहती है कि नेता परंपरागत रुप से उनसे रुबरु होकर वोट मांगे। इंटरनेट भ्रमण करने वाले और एसएमएस पाने वाले लोग वोट डालने नहीं निकलते हैं खासकर गर्मियों में, अगर चुनाव सर्दियों में हो तो फिर भी निकल सकते हैं।
  5. भाजपा जिसे पहले शहरी पड़े-लिखे मध्यम वर्ग की पार्टी कहा जाता था, शहरों में ही सबसे ज्यादी हारी है। इसका मतलब है कि भाजपा की नीतियां मध्यम वर्ग को समझ नहीं आ रही हैं। 
  6. भाजपा जीतने के लिये किसी भी प्रकार के समझौते को तैयार थी, इसका उदाहरण महा भ्रष्ट नीरा यादव को केवल कुछ वोटों के लालच में अपने दल में शामिल करने का है। 
  7. भाजपा में काफी लोग अपनी ही पार्टी को हराने के लिये काम करते है।
  8. पुराने एक ब्लॉग पोस्ट में मैंने कहा था कि भारत में सफल नेता बनने  लिये भारत को जानना जरुरी है और इसके लिये सघन भारत भ्रमण जरुरी है। इससे जमीनी स्तर की जानकारी मिलती है राहुल गांधी पिछले कुछ समय से ऐसा ही कर रहे हैं और उनका इसका फायदा मिल रहा। इसके विपरीत भाजपा के अधिकांश नेता और कुछ कांग्रेसी भी टीवी चैनलों की बहस में भाग लेकर अपनी नेतागिरी चमकाते हैं और असली चुनाव में नाकाम रहते हैं।
  9. अब विकास की राजनीति के दिन हैं खाली विचारधारा की बात करके या उर्दू लागू करके, बाबरी मस्जिद की बात छेड़के आप वोट नही पा सकते।
  10. भाजपा को अपने आप को नैतिक रुप से और विचारधारा से सबल बनाना चाहिये सफलता अपने आप मिल जायेगी। अगर भाजपा और पार्टियों जैसा ही आचरण करेगी तो लोग असली पार्टी को ही वोट देगें न कि भाजपा को। 
  11. कांग्रेस ने नये लोगों को काफी मौका दिया और इसका फायदा उसे मिला है।
  12. कांग्रेस को मीडिया का काफी सहारा मिला। मीडिया द्वारा भाजपा की बातों को उछालना और छोटे दलों की ब्लैकमेलिंग के खिलाफ महौल बनाना कांगेस को फायदा दे गया।
  13. भाजपा को मीडिया को मैनेज करना नहीं आता, अधिकांश भाजपाई अंग्रेजी समाचार चैनलों पर अंग्रेजी में बात करते हैं और जो चैनल भाजपा और हिन्दुवादियों का मजाक बनाते हैं उन्हीं पर भाजपाई ज्यादा मेहरबान रहते हैं और अपना नुकसान कराते हैं।

SarkariNaukriBlog com रविवार, 17 मई 2009
मतगणना के बाद की बहानेबाजियां

कल लोकसभा चुनावों के बाद मतगणना होनी है और जाहिर सी बात है कि कोई पार्टी जीतेगी और किसी को हार का मुंह देखना पड़ेगा। चुनावों के नतीजों के बाद उनका राजनीतिज्ञ, राजनैतिक पार्टियां, विश्लेषक व जनता अपने अपने हिसाब से व्याख्या करेंगे। ऐसे में मतगणना के बाद प्राप्त परिणामों पर जब पक्के राजनीतिबाजों से जब इनकी व्याख्या करने को कहा जाता है कई तरह की बातें ये लोग कहते हैं। देखिये कैसी-कैसी बाते करते हैं :

  • अगर किसी की पार्टी जीत गई तो वो इसका सारा श्रेय नेता अपनी पार्टी के नेता को देकर अपनी स्थिति मजबूत करेगा। मसलन हर कांग्रेसी सोनिया गांधी और राहुल गांधी को श्रेय देगा और भाजपाई आडवाणी को। (मनमोहम सिंह को जीतने पर कोई  श्रेय नहीं देगा)
  • अगर पार्टी हार गई तो कहेंगे कि हम ने काम तो बहुत अच्छा किया पर हम जनता तक अपनी बात पहुंचा नहीं पाये। (गलती किसकी है)
  • अगर खुद और खुद की पार्टी हार गई लेकिन मिलती जुलती विचारधारा की पार्टी जीत गई तो कहेंगे कि हम हार कोई बात नहीं हमारे विचारों की जीत हूई है और जनता ने हमारी बात को रखा है। (समान विचारधारा की पार्टी में मिल क्यों नहीं जाते)
  • अगर भाजपा भारी बहुमत से जीत गई तो कहा जायेगा कि सांप्रदायिकता की जीत है और जनता जब समझेगी तो इन को वापस हरा देगी। (जनता समझती क्यों नहीं)
  • जब हारने वाली पार्टी के नेता से हारने  का स्पष्ट कारण बताने को कहा जायेगा तो वो यह कह कर कन्नी काट लेगा की अभी कुछ कहना तो जल्दीबाजी होगी और पार्टी मिल जुल कर बाद में स्थिति का विश्लेषण करेगी। (और क्या पार्टी के नेता की बुराई करके अपनी शामत बुलानी है)
  • अगर सामने वाली पार्टी भारी बहुमत से जीत गई तो भी कहा जायेगा कि जीत तो हमारी ही हुई है आप हारी हुई पार्टियों के वोट प्रतिशत को मिला लीजिये वो जीती हुई पार्टी से ज्यादा हैं। (इस तरह से देखा जाये तो भारत में आज तक कोई पार्टी कभी जीती ही नहीं और हारी हुई पार्टियां सरकार बना रही हैं)
    
इस से अलग-अलग प्रकार के कई प्रकार के बहाने कल आपको दिन भर समाचार चैनलों पर सुनने को मिलेंगे और इसका आनन्द दिन भर मिलेगा।

SarkariNaukriBlog com शुक्रवार, 15 मई 2009
चुनाव आयोग ने पप्पू बनाया

कल जब मैं और मेरे पति मतदान के लिये निर्धारित स्थान पर पहुंचे तो पता चला कि हमारा नाम वोटर लिस्ट से गायब है। हमारे पास वोटर आईडी कार्ड था, पहले भी वोट डाला हुआ है, लेकिन इस बार पता नहीं कैसे सोसाईटी के अधिकांश लोगों का नाम गायब था। यानी कि चुनाव आयोग ने ही पप्पू बना दिया। ऐसी प्रशासनिक भूलों के खिलाफ आम आदमी कुछ नहीं कर सकता है। क्या ऐसी व्यवस्था नहीं हो सकती कि मौके पर ही प्रमाण देख कर वोटर लिस्ट में नाम जोड़े जा सकें और नाम काटने वाले अधिकारी के खिलाप कार्यवाई की जा सके। चुनाव आयोग जनता और नेताओं पर तो तमाम तरह की बंदिशें और संहिताये लागू करता है, लेकिन ऐसी घटनायें जो हर चुनाव में होती हैं कि नाम गायब हो गये उसमें कुछ भी शायद नहीं करता है।
Voter Id Card

SarkariNaukriBlog com शुक्रवार, 8 मई 2009