Results for " ट्रक "
ट्रक ड्राइवरों के शेर और वाक्य

ट्रक ड्राइवरों के शेर शायरी और वाक्य










"आगे वाला कभी भी खड़ा हो सकता है।"


"तेरह के फूल सत्रह की माला, बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला।"


"बुरी नजर वाले तेरे बच्चे जियें, बड़े होकर तेरा खून पियें।"


बुरी नजर वाले तेरा मुंह काला



बुरी नजर वाले नसबंदी करा ले



"बुरी नजर वाले तू सौ साल जिये, तेरे बच्चे दारु पी पी कर मरें।"



"पहले जय शंकर की बोलो, फिर दरवाजा खोलो"



"हम तो दरिया हैं समंदर में जायेंगे, चमचों का क्या होगा वो कहां जायेंगे"



"मालिक तो महान है, चमचों से परेशान है"



"मालिक का पैसा, ड्राइवर का पसीना,चलती है सड़क पर, बन कर हसीना।"



"13 मेरा 7"



"अपनी सवारी जान से प्यारी"



"धीरे चलोगे तो बार बार मिलोगे, तेज चलोगे तो हरिद्वार मिलोगे"



"हंस मत पगली, प्यार हो जायेगा"



"राम युग में घी मिला, कृष्ण युग में घी, इस युग में दारु मिली, खूब दबा के पी।"



"ये नीम का पेड़, चन्दन से कम नहीं, हमारा लखनऊ लन्दन से कम नहीं"



जिन्हें जल्दी थी वो चले गये, तुझे जल्दी है तो तू भी जा



वक्त से पहले नसीब से ज्यादा कभी नहीं मिलता



मां मेरी दुनिया तेरे  आंचल में



जरा कम पी मेरी रानी बहुत मंहगा है इराक का पानी



Use  Dipper at Night



भगवान बचाये तीनों से, डाक्टर पुलिस हसीनों से



ऐ मालिक क्यों बनाया गाड़ी बनाने वाले को, घर से बेघर कर दिया गाड़ी चलाने वाले को



फानूस बन कर जिसकी हिफाजत  हवा करे, वो शमा क्या बुझेगी जिसे रोशन खुदा करे



नीयत तेरी अच्छी है तो, किस्मत तेरी दासी है। कर्म तेरे अच्छे हैं तो घर में मथुरा काशी है



हमारी चलती है लोगों की जलती है



कीचड़ में पैर रखोगी तो धोना पड़ेगा, ड्राइवर से शादी करोगी तो रोना पड़ेगा



अपनों से बचो गैरों से निपट लेंगे



क्यों मरते हो बेवफा सनम के लिये, दो गज जमीन मिलेगी दफन के लिये।
मरना है तो मरो वतन के लिये, हसीना भी दुपट्टा उतार देगी कफन के लिये।।



दुल्हन वही जो पिया मन भाये, पिया वही जो पी कर आये



मैं खूबसूरत हुं मुझे नजर न लगाना, जिन्दगी भर साथ दूंगी पीकर मत चलाना



गलत ओवरटेक से यमराज बहुत खुश होता है



भूत प्रेत और मासूम बीवी मन का वहम है, ऐसा कुछ नहीं होता

Manisha बुधवार, 24 जनवरी 2007
सालाना 80 हजार घूस देता है हर ट्रक वाला
लीजिये भारत में व्याप्त भ्रष्टाचार के ऊपर एक और मुहर लग गई। एक अध्ययन के अनुसार भारत में हर ट्रक वाला Bribe -  घूस सालाना 80 हजार रुपये की रिश्वत विभिन्न सरकारी एजेंसियों के लोगों को देता है। देश में तकरीबन 36 लाख ट्रक हैं। ऐसे में ट्रक ऑपरेटरों की करीब 22 हजार करोड़ की कमाई भ्रष्ट सरकारी अमले की भेंट चढ़ जाती है। ट्रांसपोर्ट क्षेत्र की इस बदसूरत तस्वीर को उजागर किया है ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल की रिपोर्ट ने। रिपोर्ट के मुताबिक यदि इस भ्रष्टाचार पर काबू पा लिया जाए तो इससे सबसे ज्यादा फायदा उपभोक्ताओं को होगा, क्योंकि रिश्वत की यह राशि येन-केन-प्रकारेण अंतत: उन्हीं की जेब से वसूली जाती है। श्रीराम समूह की वित्तीय मदद से एमडीआरए द्वारा कराए गए अध्ययन पर आधारित रिपोर्ट को ट्रांसपरेंसी इंटरनेशनल की भारत शाखा के अध्यक्ष एडमिरल (सेवानिवृत्त) आरएच तहलियानी ने जारी किया। उन्होंने कहा कि एक ट्रक ऑपरेटर रोजाना 211 से 266 रुपये की घूस टोल प्लाजा, चेक-प्वाइंट्स तथा राज्यों की सीमा चौकियों पर अदा करता है। यह रिश्वत पुलिस, आरटीओ के अलावा वन विभाग, बिक्रीकर व चुंगी कर्मचारियों को दी जाती है। इसका मकसद चेकिंग से बचना होता है।

"काश भारत के लोग नैतिक रुप से श्रेष्ठ होते।"

Manisha मंगलवार, 2 जनवरी 2007