हमारे – उनके विश्वास और अंधविश्वास

21 जुलाई को चांद पर मानव के कदम रखने के 40 साल पूरे होने जा रहे हैं। दुनिया भर में इस अद्भुत घटना को याद किया जा रह है। चांद पर पहुंच कर धरता के लोगों मे अपनी मनवीय श्रेश्ठता का परिचय दिया था लेकिन कई लोगों को ये विश्वास कभी नहीं हुआ कि इंसान चांद पर पहुंच गया है। अमेरिका के ही कई लोग ऐसे थे जो इस बात पर विश्वास नहीं करते थे। कई लोगो ने ये प्रमाणित करने के लिये किताबें लिख डाली कि कोई चांद पर नहीं गया था बल्कि वहां की फोटो नकली हैं। घूम-फिर कर कई ईमेल मेरे पास भी आये हैं जिसमें ये दिखाया गया है कि कैसे अमेरिका का झंड़ लहरा रहा है जबकि चांद पर तो हवा नहीं है, या फिर की की यात्रियों की परछांई गलत दिशा में आ रही है इत्यादि। अपने देश में भा कई लोग है जिन्हें इस बात पर कभी विश्वास नहीं हुआ। मेरी दादीजी कहती थी किम चांद पर कोई नहीं गया, वहां इंसान जायेगा को प्रलय आ जायेगी। लेकिन मुझे विश्वास है कि इंसान चांद पर गया था।

विश्वास
इसी तरह की कई बाते दुनिया भर के लोगों में चलती रहती हैं। मुस्लिम जगत के अधिकांश लोग  आज तक 9/11 की घटना को अमेरिकी की साजिश मानते हैं। पाकिसेतान के लोग 26/11  की घटना को भारत और अमेरिका तथा इस्राइल द्वारा प्रायोजुत मानते हैं। भारत के लोग पाकिस्तान के किसी भी आश्वासन कर विश्वास नहीं कते हैं।

हमारे देश में भी कई इसी प्रकार की बातें हैं। कई लोग ताजमहल को विष्णु मंदिर मान कर प्रमाण जुचाते रहते हैं। कुतुब मीनार में भी कई लोग ऐसे ही प्रमाण खोजते है। पहले भारत में कोई भी घटना घटने पर लोग केवल बीबीसी से प्रसारित खबरों पर ही विश्वास करते थे। भारत के अधिकांश लोग आज भी किसी घटना में मारे गये लोगों की सरकार द्वारा बताई गई संख्या पर विश्वास  नहीं करते हैं और उसस् बढ़-चढ़ कर आने वाली संख्या की अफवाहों पर विश्वास करते हैं।  कई लोगो को ज्योतिष पर पूरा विश्वास है कई लोग उसका मजाक बनाते हैं। लोगों को नेताओं के भ्रष्ट होने का पूरा भरोसा है जबकि सारे नेता ऐसे नहीं होते हैं।

कहने के मतलब हे कि कुछ लोग हमेशा ऐसे रहेंगे जो कि किसी बात पर विश्वास पर भरोसा न करके अपनी ही दुनिया में रह कर कुछ बातों को मानते रहते हैं। 

लगे हाथों में ये भी बता दूं कि मुझे भगवान के होने  और भूतों  के न होने पर पूरा विश्वास है।

अपने विश्वासों को भी आप यहां बताईये।

विज्ञापन

4 टिप्‍पणियां

  1. ताज महल विष्णु मंदिर, ये नयी बात पता चली अभी तक को शिव मंदिर औरे तेजो महलया (ऐसा किसी मंदिर का नाम सुना है आपने?) ही सुने थे :-)

    उत्तर देंहटाएं
  2. मनीषा, दुनिया तरह-तरह के लोगों से भरी हुई है और जितने मुंह उतनी बातें. गुजरात में कहीं जैन सम्प्रदाय का अनूठा प्लेनेटोरियम है जिसमें वे बताते है की चंद्रमा और अन्य अन्तरिक्षीय पिंडों पर कैसे देवता व् जीव आदि विचरण करते हैं, उन्होंने बाकायदा उनके चित्र भी लगा रखे हैं. वे भी अपने आगंतुकों को बताते हैं की अमेरिका ने दरअसल एरिजोना में लैंडिंग की शूटिंग की थी.
    हाल में ही लें, बहुत से लोग ये मानने लगे की माइकल जैकसन नहीं बल्कि उसका हमशक्ल मर गया है और असली माइकल अपनी शक्ल बदलवा रहा है.

    उत्तर देंहटाएं
  3. aadmi ka chand pe jaana sachmuch he adbhut hai ! ye biswas waali baat hai agar kuch log es baat ko nahi maante hai to nahi maane . tajmahal bishu bhagwan ka mandir ?? ye baat kuch samaj meai nahi aayi ? saare log jaante hai ke tajmahal ek makbara hai jaha sahjaha saleem ne anarkali ke yaad meai banayi thi . to phir ye hindu bhagwano ka place kaise ho gya ?

    उत्तर देंहटाएं
  4. पहली बार इधर का फेरा लगा है। नाम अच्छा लगा आपके ब्लाग का। कंटेंट भी :)

    उत्तर देंहटाएं