www.HindiDiary.com: ट्रैवल
Results for " ट्रैवल "

 केरल के वर्कला बीच की यात्रा 


Varkala Beach


पिछले साल के अंत में (दिसम्बर) हम लोग केरल राज्य के तिरुवनंतपुरम और वहां से कन्याकुमारी की यात्रा पर गये थे। तिरुवनंतपुरम में हमने प्रसिद्ध पद्मनाभ मंदिर, मंदिर के पास का संग्रहालय, शहर के अन्य मंदिर और वहां पर स्थित समुद्र तटों की यात्रा की। तिरुवनंतपुरम या त्रिवेंद्रम में हम लोग शंगमुखम बीच, प्रसिद्ध कोवलम बीच और बहुत ही सुंदर वर्कला बीच गये। Trip to Varkala Beach in Kerala. 

यूं केरल की खूबसूरती के बारे में जितना कहा जाए उतना ही कम है, लेकिन जब हम वर्कला बीच की यात्रा (Keral ke Varkala Beach ki Yatra) कर के वहां पहुंचे तो हम लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहा। वर्कला बीच हमारे द्वारा देखे गये आज तक के सभी समुद्र तटों में से सबसे ज्यादा खूबसूरत है। 

केरल के खूबसूरत बीचों की लिस्ट में सबसे पहले नाम वर्कला बीच का आता है। वर्कला उन लोगों के लिए स्वर्ग से कम नहीं है, जो प्रकृति की गोद में आध्यात्मिक शांति की तलाश करते हैं। दक्षिणी केरल के इस छोटे से गांव में ऐसी शांति और सुकून है, जो और जगहों पर नहीं मिलती।

हमने भारत के बहुत से समुद्र तटों की यात्रा की है,  लेकिन हमारे अनुसार वर्कला बीच इन सब से ज्यादा सुंदर है।


वर्कला बीच की भौगोलिक स्थिति


वर्कला बीच, जिससे पापनासम बीच का नाम से भी जाना जाता है, तिरुवनंतपुरम के  उत्तर में करीब 40 किलोमीटर की दुरी पर स्थित समुंदर-तट है। यह अरब सागर और हिन्द महासागर का हिस्सा है। 'पापनासम' शब्द का अर्थ है 'पापों का विनाश'। ऐसा माना जाता है कि पापनासम बीच में स्नान करने से पापों का विनाश हो जाता है।

वर्कला अपने  2,000 वर्ष पुराने जनार्दन स्वामी मंदिर के लिए भी प्रसिद्ध है जो कि भगवान विष्णु का मंदिर है। वर्कला में एक अन्य प्रसिद्ध स्थल है समाज सुधारक श्री नारायण गुरु द्वारा स्थापित सिवगिरी मठ। पहाड़ी की चोटी पर स्थित श्री नारायण गुरु की समाधि केरल में सबसे प्रसिद्ध स्मारकों में से एक है।

सर्दियों का मौसम इस जगह की यात्रा के लिए सबसे अच्‍छा समय होता है। वर्कला ही केरल में एकमात्र ऐसी जगह है जहां पहाड़ियां, समुद्र के निकट हैं।  यहां पर समुद्र बीच पर जाने के लिये नीचे जाना पड़ता है। 

समुद्र किनारे बसा और विदेशियों का पसंदीदा वर्कला बीच असल में समुद्र तल से खासी ऊंचाई पर है। वर्कला के आसपास पश्चिमी घाट की चट्टानें समुद्र से थोड़ी दूरी पर न होकर बिल्कुल किनारे पर हैं। इन्हीं में से दो चट्टानों पर बसा है वर्कला। इनमें से एक है नॉर्थ क्लिफ और दूसरी साउथ क्लिफ और तीखी ढलान वाली इन चट्टानों की तलहटी में हैं चमचमाती रेत वाले किनारे।


उपर चट्टानी टीले पर बहुत सी कपड़ों की और अन्य उपयोगी सामान की दुकानें हैं। इन दुकानों के पीछे बहुत सारे होटल और रेस्टोरेंट हैं। इन सब के बीच में जो बीच पर जाने का रास्ता है उसके बांयी तरफ नीचे खूबसूरत बीच और दांयी और दुकानें और होटल स्थित हैं। 

जब आप वर्कला पहुंचते हैं तो सबसे पहले पार्किंग से ही नीचे की सुंदर बीच दिखता है। पूरा नजारा ऐसा है कि यदि आप नीचे समुद्र को देखेंगे तो देखते ही रह जायेंगे। आप को ऐसा लगेगे कि काश समय थम जाये और आप जी भर के इस खूबसूरत नजारे को देखते रहें।


Varkala Beach Kerala वर्कला बीच

वर्कला समुद्र तट कैसे पहुंचे?


 वर्कला बीच तिरुवनंतपुरम (त्रिवेंद्रम) के उत्तर में करीब 40 किलोमीटर और कोल्‍लम शहर से 37 किमी. दूर दक्षिण - पश्चिम में स्थित है। दक्षिण भारत के सभी महत्‍वपूर्ण शहरों से वर्कला के लिए बस सेवाएं चलाई जाती हैं। वर्कला में रेलवे स्‍टेशन भी है और यहां का निकटतम हवाई अड्डा तिरूवंनतपुरम में है। 

हम लोगों ने त्रिवेंद्रम से वर्कला पहुंचने के लिये ओला टैक्सी की थी। 

वर्कला भारत के दक्षिण-पश्चिमी छोर पर स्थित है। यहाँ का मौसम उष्ण-कटिबंधीय है। मार्च और मई के बीच के महीनों में यहाँ का मौसम बहुत ही गर्म और आर्द्र रहता है, जिसके कारण इसकी एक अनुपयुक्त पर्यटन स्थल के रूप में गणना की जाती है। 

पर्यटक दिसंबर से लेकर मार्च के महीनों में यहाँ की यात्रा करना काफी पसंद करते हैं। इस समय यहाँ मौसम सुखद रहता है। हम लोग भी दिसंबर माह में ही वहां घूमने गये थे।

Varkala Beach View

वरकला बीच का वर्णन


त्रिवेंद्रम का वर्कला बीच एक लंबा साफ सुथरा ऐसा समुद्र तट है जिस पर समुद्र का पानी बहुत ही साफ हैं। भारत के अन्य समुद्र तटों से अलग यहां पानी बहुत ही साफ है और उसमें बालू बहुत ही कम मिश्रित है। किनारे की बालू भी एक दम साफ है और लगभग सफेद और सनहरे रंग की है। वरकला का बीच बहुत ही सुंदर करीब एक से ढेड़ किलोमीटर तक जहां तक कि निगाह जाती है, लंबा और बिलकुल सीधा है। 

बीच के एक ओर उूंचे चट्टानी टीले पर स्थित मुख्य जमीन है और दूसरी और लंबा उथला समुद्र है जिसमें आप काफी अंदर तक आराम से जा के समुद्री पानी में नहाने का मजा ले सकते हैं।

उूंची चट्टानी वाली मुख्य भूमि पर ही पूरा वर्कला बसा हुआ है और वहां पर सैंकड़ों की संख्या में होटल, रेस्टोरेंट, होम स्टे, अतिथि गृह इत्यादि बने हुये हैं। हमें ऐसा लगा कि हनीमून वाले जोड़ों के लिये ये बिलकुल अच्छी जगह है जहां कम से कम एक रात तो रूका ही जा सकता है।


View from Varkala Beach


वर्कला बीच पर हमें भारतीयों के मुकाबले विदेशी सैलानी ज्यादा दिखे। भारत के समुद्री बीचों का मजा भारतीयों से ज्यादा विदेशी ही लेते हैं। 

सुंदरता में विदेशी सागर तटों को मात देता  है केरल राज्य के तिरुवनंतपुरम का  वर्कला बीच।

वरकला बीच पर आनंद की कई मनोरंजक गतिविधियों जैसे सूरज स्नान, नाव की सवारी, सर्फिंग और आयुर्वेदिक मालिश की सुविधा आराम से मिल जाती है। 

वर्कला बीच से ही लगे हुये  हैं 'पापनासम'  और 'कप्पिल' बीच, समय निकाल कर आप वहां भी जा सकते है।




 वर्कला बीच पर हमारी गतिविधियां


त्रिवेंद्रम से  वर्कला बीच हम लगभग 1.30 (डेढ़) घंटे में पहुंच गये। रास्ते में हमने आईटी इंडस्ट्री के लिये बनाया गया आधुनिक टैक्नो पार्क देखा। यहां पर बहुत सारे उत्तर भारतीय तकनीकि इंजीनियर काम कर रहे हैं।

पहले इसी टैक्नो पार्क के सामने स्थित सरवणा भवन शाकाहारी रेस्त्ररां (Restaurant) में हमने दोपहर का खाना (लंच) खाया और त्रिवेंद्रम टैक्नो पार्क के सामने खड़े होकर सेल्फी लेकर चल पड़े वरकला समुद्र तट की और।

जब हमारी टैक्सी वरकला पर समुद्र किनारे उूंचे टीले पर स्थित पार्किंग पर पहुचे तो वहां से वर्कला बीच का पानी धूप की वजह से सुनहरा चमक रहा था। उस वक्त सूरज ढलान पर था और उसकी सुनहरी आभा से वर्कला का सफेद रेत वाला समंदर तट चमक रहा था।

 कुछ देर वहां से सुंदर नजारा देख कर हम लोगों ने नीचे बीच पर जाने की शुरूआत की।


रास्ते में हमने बच्चों के लिये समुद्र में नहाने के लिये कुछ कपड़ों को खरीदने के लिये दुकानों में सामान देखना शुरू किया। एक दुकान में हमें कुछ अच्छा सामान देख कर रुक कर आपस में बात करना शुरु किया तो दुकान में अपने छोटे बच्चे के साथ बैठी महिला ने शुद्ध उत्तर भारतीय हिंदी में हमसे पूछना शुरू कर दिया कि हम क्या खरीदना चाह रहे हैं और कैसा चाहते हैं। 

उससे बात करते करते पता चला कि उसका पूरा परिवार वहां रह रहा है और वो लोग अक्टूबर से मार्च के दौरान पर्यटन सीजन में दुकान किराये पर लकर वहां पर पर्यटकों को बने बनाये कपड़ों को बेचने का काम करते हैं। वो लोग राजस्थान से थे। वाकई लोग किस किस तरह का और कहां कहां पर अपना व्यवसाय करते हैं। 

वर्कला बीच पर हमने जम के समुद्र के साफ पानी में बच्चों के साथ नहाने का और पानी में मस्ती करने का आनंद लिया। पानी में ही नहाते नहाते वहां के बहुत ही सुंदर सूर्यास्त के दृश्य को देखा और साथ ही साथ हमने जम कर फोटोग्राफी भी की।

Varkala Beach Sunset


भारत के समुद्र तटों पर अभी अच्छी मूलभूत सुविधाओं की कमी है जैसे कि समुंदर के नमकीन पानी में नहा कर जब निकलते हैं तो आपके लिये साफ ताजे नहाने के पानी की व्यवस्था नहीं होती है। वर्कला बीच पर आश्चर्यजनक रूप से चट्टानी पहाड़ियों में से प्राकृतिक रूप से झरने हैं, जिसमें आप अपने को साफ कर सकते हैं। 

हम लोगों ने भी ऐसे ही एक प्राकृतिक झरने में नहा कर अपने को साफ किया और कपड़े बदल कर वर्कला बीच की अपनी यात्रा पूरी की। लोगों से पूछने पर पता चला कि ये झरने पूरे साल भर पानी देते हैं।

वर्कला के सागर किनारे खाने-पीने के कई अच्छे ठिकाने हैं, जहां ठंडी हवा के झोंकों के बीच डिनर किया जा सकता है। हम ने भी ऐसे ही एक रेस्टोरेंट में अपना डिनर किया और वापस अपने त्रवेंद्रम स्थित होटल के लिये  अपनी टैक्सी जो कि पार्किंग में हमारी प्रतीक्षा कर रही थी के द्वारा चल पड़े। 

वर्कला बीच की हमारी यात्रा यादों मे हमेशा रहेगी।

Manisha शुक्रवार, 14 अगस्त 2020

ट्रैवलिंग यात्रा सफर पर्यटन सफर शेर-शायरी मुहावरे गाने और वाक्य



ट्रैवलिंग यात्रा सफर सैर शेर-शायरी मुहावरे वाक्य



यूं आजकल पर्यटन ट्रैवलिंग का शौक काफी बढ़ गया है। हर किसी को दुनिया घूमने का शौक़ नहीं होता, पर जिन्हें होता है वो ही जानते हैं कि जगह जगह घूमना क्या होता है। घमुक्कड़ ही पर्यटन के लिये यात्रा की असली क़ीमत समझते हैं।  घूमने-फिरने से हमें जो भी मिलता है वो पढ़ने लिखने या फिर क़िताबें पढ़ कर नहीं पा सकते। 

चाहे धार्मिक कारण हो, चाहे ज्ञान की उत्कंठा हो, व्यापार के लिये हो या फिर पर्यटन के लिये ही यात्रा हो, अनंत काल से मनुष्य यात्रा कर ही रहा है। अलग अलग भाषाओं में पर्यटन के कारण जन मानस में कुछ बाते, वाक्य, मुहावरे, कवितायें, गाने, शेर-शायरी लोगों के दिलो दिमाग में बैठ गई हैं।  

इसी घुमक्कड़ी, पर्यटन, ट्रैवलिंग और सफर पर आधारित कुछ बातें, वाक्य, शेर-ओ-शायरी, फिल्म गाने और संवाद इत्यादि का हिंदी भाषा में संकलन हम यहां आपके लिए लेकर आएं है जो आपको काफी पसंद आएगा, ऐसी उम्मीद है। Travelling Tourism Sher Shayari Status Quotes Songs in Hindi. आप अपनी टिप्पणी के माध्यम से पर्यटन के अपने पसंद की ऐसी ही लाइनें, गाने वगैरह साझा कर सकते हैं।


 ट्रैवलिंग और टूरिज्म से संबंधित  शेर-शायरी, मुहावरे, कहावतें, गाने, वाक्य, Status and Quotes का ये संकलन अपने आप में पूर्ण संकलन नहीं है। जैसे जैसे नई बाते पता लगती जायेंगी यहां पर समय समय पर अद्यतन (Update) किया जाता रहेगा। 




पर्यटन से संबंधित शब्द/Words

  • यात्रा (Yatra) – To Travel
  • यात्री (Yatri) – Traveller
  • पर्यटक (ParyaTaka) – Tourist
  • पर्यटन ( ParyaTan) – Tourism
  • पथिक (Pathik) – That on the road
  • प्रवासी (Pravasi) – Living in another country
  • सफर (Safar) - यात्रा To Travel
  • मुसाफिर (MusaFir) - यात्री Traveller
  • घूमना (GhumNa) – यात्रा To Travel
  • फिरना (FirNa) – To Travel
  • घुमक्कड़ (Ghumakkar) - मुसाफिर/यात्री Traveller
  • घुमक्कड़ी (Ghumakkari) - यात्रा To Travel
  • भ्रमण (Bhramarh) - यात्रा To Travel 

 

Travelling and Tourism Status in Hindi

पर्यटन/यात्रा/सफर की हिंदी कहावतें/वाक्य/विचार


  • किसी जगह के बारे में ज़िन्दगी भर सुनने से अच्छा है कि एक बार उसे जाकर खुद देख लो।
  • बहुत हो गया काम काज, चल यार कहीं घूम के आते हैं।
  • दुनिया एक किताब है, और जो यात्रा नही करते है वे केवल एक पन्ना पढ़ते है।  
  • जिन्दगी जीने का असली मजा यात्रा में ही हैं।  
  • हजारों मील की यात्रा भी एक कदम से शुरू होती है।
  • सत्य से पराजित होने के पूर्व झूठ आधी दुनिया की यात्रा कर लेता है।  
  • आपकी यात्रा सफल और सुखद हो।
  • वही सबसे तेज चलता है, जो अकेला चलता है। 
  • समय किसी की प्रतीक्षा नहीं करता।
  • जिंदगी, जिंदादिली का नाम है, मुर्दादिल क्या ख़ाक जिया करते हैं।
  • धीरे चलोगे तो बार बार मिलेंगे, नहीं तो हरिद्वार में मिलेंगे।
  • कोस कोस पर पानी बदले, चार कोस पर वाणी।
  • मियाँ की दौड़ मस्जिद तक।
  • सफलता एक निरंतर यात्रा है न की एक मंजिल।
  • ख़ुशी एक सफर है, ना कि मंजिल।
  • हजार मील का सफर भी एक कदम से ही आरंभ होता है।
  • यात्रा के अंत तक पहुंचना अच्छा है, लेकिन अंत में वो यात्रा ही है जो मायने रखती है।
  • आओ संग में एक कहानी बनाते हैं, चलो कहीं घूम के आते हैं।
  • एक किताब पढ़ने से जितना सीखते हैं, उससे हजार गुना यात्रा करने से सीखते हैं।
  • इंसान के यात्रा करने के जुनून ने ही उसे चांद तक पहुंचा दिया।
  • आप खुशी को नहीं खरीद सकते हैं, लेकिन यात्रा के लिये हवाई जहाज का टिकट खरीद सकते हैं, ये खुशी खरीदने के बराबर है।
  • सबसे अच्छी यात्रायें सबसे अच्छे प्यार की तरह होती हैं, जिसका वास्तव में अंत नहीं है।
  • सही मार्ग पर चलना यात्रा है और बिना लक्ष्य के गलत राह पर चलना भटकना है।
  • यात्रा हर कोई करता है पर कुछ लोग पूरी दुनिया की यात्रा करते हैं और कुछ लोग सिर्फ घर से ऑफिस तक ही यात्रा करते हैं।
  • हर किसी को दुनिया घूमने का शौक़ नहीं होता, पर जिन्हें होता है वो इसकी असली क़ीमत समझते हैं।
  • यात्रा करने पर हम सबसे ज्यादा सीखते हैं।
  • सफ़र सिर्फ मंजिलों तक पहुंचने के लिए नहीं होते बल्कि उन तमाम जगहों से गुजरने के लिए भी होते हैं जो मंजिल के रास्ते में पड़ती हैं..! - ममता शर्मा
  • चरैवेति चरैवेति॥ (चलते रहो, चलते रहो) - एक संस्कृत वाक्य/विचार


पर्यटन पर हिंदी मुहावरे


  1.  नौ सौ चूहे खाके बिल्ली हज को चली
  2. जैसा देश वैसा भेष
  3. अधर में लटकना या झूलना
  4. गधे के सिर से सींग की तरह गायब होना
  5. छूमंतर होना।
  6. उड़न छू होना
  7. कभी नाव गाडी पर, कभी गाडी नाव पर
  8. परमश्वर की माया, कहीं धूप, कहीं छाया
  9. बहती गंगा में हाथ धोना
  10. रफ़ू-चक्कर होना
  11. नौ दो ग्यारह हो जाना
  12. चम्पत होना
  13. ठहर-ठहर के चलिए, जब हो दूर पडाव
  14. देर आयद ,दुरुस्त आयद
  15. हरी झंडी दिखाना
  16. दूर के ढोल सुहावने (होते/लगते हैं)
  17. हवा से बातें करना
  18. आसमान पर चड़ना
  19. गंगा नहाना
  20. घाट घाट का पानी पीना
  21. लौट के बुद्धू घर को आये

बोलचाल के पर्यटन यात्रा शब्द


भारत के जनमानस में कुछ शब्द और बोल यात्रा से संबंधित इस तरह के बन गये हैं कि वो रोजाना की बोलचाल में बहुत ही ज्यादा प्रयोग होते हैं। इन सब बोल शब्दों को वाक्यों मे प्रयोग करके बोला जाता है और इन सबके मतलब को सब समझते है। जब आप यात्रा करते हुये भारत की जनता से घुले मिलेंगे तो आप को ये सब सुनाई देंगे। आइये देखें ऐसे ही 10 बोल - 
  1.  मछली बाजार - सब अस्त व्यस्त होना (Unorganized)
  2. भेड़ चाल - बिना सोचे किसी की बात के मानना (Herd Mentality)
  3. कछुआ चाल - बहुत ही धीरे धीरे काम करना (Slow Motion)
  4. घोड़े की तरह भागना - बहुत तेज दौड़ना (Walk like a Horse)
  5. चंपत होना - भाग जाना या गायब हो जाना (To hide)
  6. पतली गली से निकल - चुपचाप निकल जाना (Exit Silently)

Travelling Yatra Tourism Status Quotes in Hindi

पर्यटन पर संस्कृत विचार/वाक्य


  • चरैवेति चरैवेति॥  - चलते रहो, चलते रहो
  • पर्यटन् पृथिवीं सर्वां, गुणान्वेषणतत्परः। - जो गुणों की खोज में तत्पर है,वे लोग सारी पृथिवी घुमते है।
  • हदये सुखसम्पत्तिः पदे पर्यटनं फलम्। - उनके मन में सुख, संपत्ती और पैरों में पर्यटन होता है।
  • यस्मिन्प्रचीर्णे च पुनश्चरन्ति; स वै श्रेष्ठो गच्छत यत्र कामः। - जो लोग सामनेआए हुए (मार्ग) पर चलते है, वह श्रेष्ठ होते है और उनको अभीष्ट प्राप्त होता है।
  • चरन्ति वसुधां कृत्स्नां वावदूका बहुश्रुताः। - बुद्धीमान् और वाक्-कुशल लोग, सारी पृथ्वी घुमते है।
  • चरन्मार्गान्विजानाति  - पथिक व्यक्ति को मार्ग पता चलता है।
  • आस्ते भग आसीनस्य, ऊध्वर्स्तिष्ठति तिष्ठतः। शेते निपद्यमानस्य, चराति चरतो भगः। - बैठे हुए मनुष्य का सौभाग्य बैठा रहता है, उठ कर खडे होने वाले व्यक्ति का सौभाग्य भी उठ कर खड़ा हो जाता है,लेटे हुए मनुष्य का सौभाग्य सोया रहता है, और चलने वाले व्यक्ति का सौभाग्य उसके साथ- साथ चल पड़ता है।
  • चरन् वै मधु विन्दति, चरन् स्वादुमुदुम्बरम्। सूयर्स्य पश्य श्रेमाणं, यो न तन्द्रयते चरन्। - जो सदा श्रमशील, गतिशील हैं, वो सदा मधुपान (शहद/ अमृत / परिश्रम का सुफल) करते हैं, कर्मयोगी को सदा श्रेष्ठ कर्म का श्रेष्ठ परिणाम मिलता है। देखो, सूर्य कितना, कर्मशील और सृजन शील है, पल भर भी जो दूसरों के कल्याण के लिये अपने श्रम से कभी विमुख नही हैं ।
  • अन्योन्यवीर्यनिकषाः पुरुषा भ्रमन्ति। - एक दुसरे की पहचान जो वीरता से करते है, वे लोग घुमते है।
  • दुःखं हन्तुं सुखं प्राप्तुं ते भ्रमन्ति मुधाम्बरे। - वे आकाश में मुग्ध रूप से, दुःख भुलने के लिये और सुख के प्राप्ति के लिये घूमते (उडते) है (हमारी तरह)।
  • हृदि श्रीर्मस्तके राज्य पादे पर्यटनं फलम्। - उनके मन में संपत्ति, सिर के उपर राज्य (का दायित्व) और पैरों में पर्यटन होता है।
  • योजनानां सहस्त्रं तु शनैर्गच्छेत् पिपीलिका।  - शनैः शनैः ही सही, सतत चलते रहने पर, चींटी जैसी छोटी सी जीव भी सहस्रों योजन की यात्रा पूरी कर लेती है।
  • यस्तु संचरते देशान् यस्तु सेवेत पण्डितान् ।
  • तस्य विस्तारिता बुद्धिस्तैलबिन्दुरिवाम्भसि ॥ - भिन्न देशों में यात्रा करने वाले और विद्वानों के साथ संबंध रखने वाले व्यक्ति की बुद्धि उसी तरह बढ़ती है, जैसे तेल की एक बूंद पानी में फैलती है।


ट्रैवलिंग पर बॉलीवुड हिंदी फिल्म गाने

     

  1. ज़िन्दगी एक सफ़र है सुहाना यहाँ कल क्या हो किसने जाना (फिल्म अंदाज - सुने/देखें)
  2. जिंदगी का सफर है ये कैसा सफर कोई समझा नही कोई जाना नही (फिल्म सफर - सुने/देखें)
  3. मुसाफिर हूँ यारों, ना घर है ना ठिकाना, मुझे चलते जाना (फिल्म परिचय सुने/देखें)
  4. यूं ही चला चल राही, कितनी हसीन है ये दुनिया (फिल्म स्वदेस - देखें/सुनें)
  5. सुहाना सफर और ये मौसम हसीं (फिल्म मधुमती - देखें/सुनें)
  6. दुनिया की सैर कर लो (फिल्म  Around the World एराउंड द वर्ल्ड - देखें/सुनें)
  7. चला जाता हूँ किसी की धुन में धड़कते दिल के तराने लिए (फिल्म मेरे जीवन साथीदेखें/सुनें)
  8. वहां कौन है तेरा मुसाफिर जाएगा कहां, दम ले ले घड़ी भर (फिल्म गाइडदेखें/सुनें)
  9. हम हैं राही प्यार के... जो भी प्यार से हम उसी के हो लिये (फिल्म नौ दो ग्यारहदेखें/सुनें)
  10. क्या मौसम है, चल कहीं दूर निकल जायें (फिल्म दूसरा आदमी देखें/सुनें)
  11. चल सैर गुलशन की तुझको कराऊं (फिल्म चरणों की सौगन्ध देखें/सुनें)
  12. उड़ें, खुले आसमान में ख्वाबों के परिंदे (फिल्म जिन्दगी न मिलेगी दुबारा देखें/सुनें)
  13. चलो ना, ढूंढे शहर नया, जहां मुस्कराहटे हैं बिखरी... (फिल्म जिन्दगी न मिलेगी दुबारा देखें/सुनें)
  14. हम जो चलने लगे, चलने लगे हैं ये रास्ते (फिल्म जब वी मेट देखें/सुनें)
  15. किसी मंजर पर में रूका नहीं, कभी खुद से भी मैं मिला नहीं.. फिर से उड़ चला (फिल्म रॉकस्टार देखें/सुनें)
  16. धुआं छंटा खुला गगन मेरा, नयी डगर नया सफर मेरा...रूबरू (फिल्म रंग दे बसंती देखें/सुनें)
  17. धीरे चलना है मुश्किल जो जल्दी ही सही.. हम चले बहार में.. गुनगुनाती राहो में (फिल्म पीकू देखें/सुनें)
  18. आंखो मे सपने लिये, घर से हम चल तो दिये, जाने अब ये राहें ले जायेंगी कहां... तन्हा दिल.. (गायक शान देखें/सुनें)
  19. सफर.. कैसा है ये सफर, मंजिलों की न है कोई खबर (गायक भुवन बाम देखें/सुनें)
  20. ये हसीं वादियां ये खुला आसमां.. आ गये हम कहां... (फिल्म रोजा देखें/सुनें)
  21. यूं ही कट जाएगा सफर साथ चलने से,के मंजिल आयेगी नजर साथ चलने से  (फिल्म हम हैं राही प्यार के देखें/सुनें)
  22. जरा होले होले चलो मोरे साजना, हम भी पीछे हैं तुम्हारे (फिल्म सावन की घटा देखें/सुनें)
  23. मैं निकला गड्डी लेके, एक मोड़ आया (फिल्म गदर देखें/सुनें)
  24. घूमें बंजारे घूमें गलियां ये बेचारे (फिल्म फगली देखें/सुनें)
  25. ओ बन्देया, ढूंढ़े है क्या? राहें तेरी, हैं घर तेरा। चलना वहां खुद तक कहीं पहुंचे जहां (फिल्म नोटबुक देखें/सुनें)
  26. रूक जाना नहीं तू कहीं हार के, कांटों पे चलके मिलेंगे साये बहार के। ओ राही ओ राही, ओ राही ओ राही।। (फिल्म इम्तिहान देखें/सुनें)
  27. चल अकेला, चल अकेला, चल अकेला
    तेरा मेला पीछे छूटा राही चल अकेला

    हज़ारों मील लम्बे रास्ते तुझको बुलाते
    यहाँ दुखड़े सहने के वास्ते तुझको बुलाते
    है कौन सा वो इंसान यहाँ पे जिस ने दुख ना झेला
    चल अकेला ...
    - (फिल्म संबंध देखें/सुनें)
  28. निकले थे कहां जाने के लिये, पहुंचेंगे कहां, मालूम नहीं। अब अपने कदमों को, मंजिल का निशां मालूम नहीं।। (फिल्म बहू-बेगम देखें/सुनें)


पर्यटन पर बॉलीवुड हिंदी फिल्म संवाद/वाक्य


  1. रास्ते की परवाह करूंगा तो मंजिल बुरा मान जायेगी - फिल्म वंस अपोन ए टाइम इन मुंबई
  2. 22 तक पढाई 25 तक नौकरी 26 पे छोकरी 30 पे बच्चे 60 पे रिटायरमेंट और फिर मौत का इंतज़ार… ऐसी घिसी-पिटी ज़िन्दगी थोड़े ही जीना चाहता हूँ - फिल्म ये जवानी है दीवानी
  3. मैं उड़ना चाहता हूं, दौड़ना चाहता हूं, गिरना भी चाहता हूं, बस रुकना नहीं चाहता - फिल्म ये जवानी है दीवानी
  4. एक ही शहर एक ही घर एक ही कमरे में, तू अपनी सारी लाइफ काट देगी? सोच कर डर नहीं लगता - फिल्म ये जवानी है दीवानी
  5. मुझे पहाड़ो में जाना है, फिर से हिमालय देखना है, बाइक राइड, सनराइज, बोनफायर जलाना है - फिल्म ये जवानी है दीवानी - फिल्म रॉकस्टार
  6. जहां से तुम मुझे लाये हो, मैं वहां वापस नहीं जाना चाहती, पर ये रास्ता बहुत अच्छा है, मैं चाहती हूं कि ये रास्ता कभी खतम न हो - फिल्म हाईवे
  7. शादी के बाद न, हम पहाड़ों में रहेंगे, मुझे पहाड़ बहुत पसंद हैं। रियली! - फिल्म जब वी मेट
  8. हम लोगों को हर साल एक ना एक बार गोवा जरूर आना चाहिये - फिल्म दिल चाहता है
  9. पिघले नीलम से बहता हुआ ये सामान, नीली  नीली सी खामोशियां, ना कहीं है जमीन ना कहीं आसमां, सरसराती हुई टहनियां, पट्टियां कह रही हैं कि बस एक तुम हो यहां - फिल्म जिन्दगी न मिलेगी दोबारा
  10. दिन का पूरा फायदा उठाओ, मेरे दोस्त पहले इस दिन को पूरी तरह जियो फिर 40 के बारे में सोचना - फिल्म जिन्दगी न मिलेगी दोबारा
  11. मुझे यहाँ से कही दूर ले चल हार्दिक मुझे एक ब्रेक चाहिए, हमें एक ब्रेक चाहिए - फिल्म गो गोवा गौन



Travelling Safar Sher Shayari

सफर ट्रैवलिंग शेर-ओ-शायरी   


ज़िदगी किसी के लिये एक सुहाना और किसी के लिये मुश्किल सफ़र है। हम ताउम्र जीवन के अंजाने रास्ते पर चलते रहते हैं। शायरों और कवियों/गीतकारों ने जिंदगी रे सफ़र को अपने ढंग से समझा है और अपनी शायरी व कविताओं में ढाला है। पेश है 'सफ़र' पर मशहूर शायरों के कुछ चुनिंदा शेर -


सैर कर दुनिया की गाफिल, जिंदगानी फिर कहाँ? 
ज़िंदगी गर कुछ रही तो, नौजवानी फिर कहां? - राहुल सांकृत्यायन 


दुनिया-दुनिया सैर सफर थी शौक की राह तमाम हुई,
इस बस्ती में सुबह हुई थी, इस बस्ती में शाम हुई।।
 - सज्जाद बाकर रिज्वी


मैं अकेला ही चला था जानिब-ए-मंज़िल मगर
लोग साथ आते गए और कारवाँ बनता गया 
- मजरूह सुल्तानपुरी


जिनमें अकेले चलने के हौसले होते हैं
एक दिन उन्हीं के पीछे काफिले होते हैं


भीड़ का हिस्सा बनूं ये फितरत नहीं है मेरी 
मुझे आदत है अपने काफिले खुद बनाने की 


मशहूर हो जाते हैं वो जिनकी हस्ती बदनाम होती है,
कट जाती है जिंदगी सफ़र में अक्सर जिनकी मंजिलें गुमनाम होती हैं


किसी को घर से निकलते ही मिल गई मंज़िल
कोई हमारी तरह उम्र भर सफ़र में रहा 
-अहमद फ़राज़


न जाने कौन सा मंज़र नज़र में रहता है
तमाम उम्र मुसाफ़िर सफ़र में रहता है
-निदा फ़ाज़ली


ज़िंदगी है मुख़्तसर आहिस्ता चल
कट ही जाएगा सफ़र आहिस्ता चल 
- शाहीन ग़ाज़ीपुरी


मुझे ख़बर थी मेरा इन्तजार घर में रहा,
ये हादसा था कि मैं उम्र भर सफ़र में रहा 
-साक़ी फ़ारुक़ी


गर फिरदौस बर रुए ज़मीं अस्त, 
हमीं अस्तो, हमीं अस्तो, हमीं अस्त
जहांगीर ने कश्मीर के बारे में फारसी में कहा था - 
अर्थात अगर धरती पर कहीं स्वर्ग है तो यहीं है, 
यहीं पर है और सिर्फ यहीं पर है


सफर हो शाह का या काफिला फकीरों का
शजर मिजाज समझते हैं राहगीरों का


उम्र को हराना है तो शौक जिंदा रखिये,
घुटने चलें या न चलें मन उड़ता परिंदा रखिये


जिंदगी यूँ हुई बसर तन्हा
काफिला साथ और सफर तन्हा 
- गुलजार


काफिले इस राह पर आते रहे जाते रहे
राहबर सब को मसाफत का सिला देता रहा 
- कतील शिफाई


मजरूह काफिले की मिरे दास्तां ये है
रहबर ने मिल के लूट लिया राहजन का साथ
- मजरूह सुल्तानपुरी

आंख रहजन नहीं तो फिर क्या है
लूट लेती है काफिला दिल का 
- जलील मानिकपुरी


हुजूम ऐसा कि राहें नजर नहीं आतीं
नसीब ऐसा कि अब तक तो काफिला न हुआ 
- अहमद फराज


किन मंजिलों लुटे हैं मोहब्बत के काफिले
इंसां जमीं पे आज गरीब-उल-वतन सा है


मैं खुद भी शामिल नहीं सफर में
पर लोग कहते हैं, काफिला हूं मैं  
- वसीम बरेवली


मुझ को चलने दो, अकेला है अभी मेरा सफर
रास्ता रोका गया तो काफिला हो जाउँगा  
- वसीम बरेवली


खुशबू का काफिला ये बहारों का सिलसिला
पहुंचा है शहर तक तो मेरे घर भी आयेगा 
- मंसूर उस्मानी


तुम्हारा क्या तुम्हें आसां बहुत रास्ते बदलना है
हमें हर एक मौसम काफिले के साथ चलना है 
- जलील आली


आप इक और नींद ले लीजिये
काफिला कूच कर गया कब का 
- जौन एलिया


मंजिलों से कह दो किसी और की हो जायें
के अब तुझे पाने की हसरत नहीं रही 


मिलते गये हैं मोड़ हर मुकाम पर
बढ़ती गई हैं दूरियां मंजिल जगह जगह
 - सूफी तबस्सुम


राह में उस की चलना है ऐश करा दें कदमों को
चलते जायें चलते जायें यानी खातिर-ख्वाह चलें 
- जौन एलिया


लीजिये क्यूं अहसान किसी काफिले का
सफर में जब  तन्हा ही जाना पड़ता है


कुछ मेरे बाद और भी आयेंगे काफिले
काटे ये रास्ते से हटा लूं तो चैन लूं 
- तसव्वुर किरतपुरी


वो जीवन में क्या आये, बदल गयी जिंदगी हमारी, 
वरना सफ़र-ए-जिंदगी कट रही थी, धीरे-धीरे


दिल से मांगी जाए तो, हर दुआ में असर होता है, 
मंजिलें उन्हीं को मिलती हैं, जिनकी जिंदगी में सफ़र होता है


घूमना है मुझे सारा जहां, तुम्हें अपने साथ ले कें,
बनानी हैं  बहुत सी यादें, हाथों में तुम्हारा हाथ ले के


मंजिल बड़ी हो तो, सफ़र में कारवां छूट जाता है, 
मिलता है मुकाम तो, सबका वहम टूट जाता है


सफ़र-ए- जिंदगी का तू अकेला ही मुसाफिर है, 
बेगाने हैं ये सब जो अपनापन जताते हैं, 
छोड़ जाएँगे ये साथ इक दिन तेरा राहों में, 
वो जा आज खुद को तेरा हमसफ़र बताते हैं


इन अजनबी सी राहों में, जो तू मेरा हमसफ़र हो जाये, 
बीत जाए पल भर में ये वक़्त, और हसीन सफ़र हो जाये


बीत जाएगा ये सफ़र भी दर्द की राहों का, 
मिलेगा साथ जब खुशियों की बाहों का, 
बढ़ाते रहना कदम, मत रुकना कभी,
होगा रुतबा तेरा जैसे शहंशाहों का


रहेंगे दर्द जिंदगी में, तो ख़ुशी का इंतजाम क्या होगा? 
निकल पड़े हैं जो बदलने खुद को, 
न जाने इस सफ़र का अंजाम क्या होगा?


मशहूर हो जाते हैं वो, 
जिनकी हस्ती बदनाम होती है, 
कट जाती है जीवन सफ़र में अक्सर, 
जिनकी मंजिलें गुमनाम होती हैं


मुकम्मल होगा सफ़र एक दिन, 
बस दिल में ताजा जज़्बात रखना, 
तमाम मुश्किलें आएंगी लेकिन, 
अपने काबू में हर हालत रखना


दिल से मांगी जाए तो, 
हर दुआ में असर होता है, 
मंजिलें उन्हीं को मिलती हैं, 
जिनकी जिंदगी में सफ़र होता है


वो जीवन में क्या आये, बदल गयी जिंदगी हमारी, 
वरना सफ़र-ए-जिंदगी कट रही थी, धीरे-धीरे


सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ...
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली


आओ संग में एक कहानी बनाते हैं,
चलो कहीं घूम के आते हैं!


ज़ख्म कहां कहां से मिले हैं, छोड़ इन बातों को,
ज़िंदगी तू तो बता, सफर और कितना बाकी है


डर हम को भी लगता है रास्ते के सन्नाटे से 
लेकिन एक सफ़र पर ऐ दिल अब जाना तो होगा 
- जावेद अख़्तर


है कोई जो बताए शब के मुसाफ़िरों को 
कितना सफ़र हुआ है कितना सफ़र रहा है 
- शहरयार


अपनी मर्ज़ी से कहाँ अपने सफ़र के हम हैं
रुख़ हवाओं का जिधर का है उधर के हम हैं
-निदा फ़ाज़ली


सफर का एक नया सिलसिला बनाना है
अब आसमान तलक रास्ता बनाना है
तलाशने हैं अभी हम-सफर भी खोए हुए
कि मंजिलों से उधर रास्ता बनाना है
- शहबाज ख्वाजा


मिरे शौक-ए-सैर-ओ-सफर को अब नए
इक जहां की नुमूद कर
तिरे बहर ओ बर को तो रख दिया है कभी का 
मैं ने खंगाल कर
- असलम महमूद


न जाने कैसा रिश्ता है रहगुजर का कदमों से
थक के बैठ जाऊं तो रास्ता बुलाता है
- शकील आजमी


मुसीबतें लाख आएंगी जिंदगी की राहों में,
रखना तू सबर,
मिल जाएगी तुझे मंजिल इक दिन
बस जारी रखना तू सफ़र।


उम्र बीत गयी लेकिन
सफ़र ख़त्म न हुआ,
इन अजनबी सी राहों में जो
खुद को ढूँढने निकला।



है नसीबों में सफ़र तो
मैं कहीं भी, क्यूं रुकूं?
छोड़ के आया किनारे, बह सकूं जितना बहूं
दिन गुज़रते ही रहे, यूं ही बेमौसम
रास्ते थम जाये पर रुक न पायें हम
- फिल्म मलंग के गाने मलंग का एक मुखड़ा


कोई मंजिल नहीं बाकी है मुसाफिर के लिये
अब कहीं और नहीं जायेगा, घर जायेगा।
- असलम फारूखी


इस सफर में नींद ऐसी खो गई,
हम न सोए रात थक कर सो गई।
- राही मासूम रजा


घर से निकले हैं, हम सफर में हैं
कहिये मंजिल से इंतजार करे।


रास्ते कहां खत्म होते हैं, जिन्दगी के सफर में,
मंजिलें तो वही हैं जहां ख्वाहिशें थम जायें।


हज़ारों उलझनें राहों में ,और कोशिशें बेहिसाब ।
उसी का नाम हैं ज़िंदगी ,चलते रहिए जनाब।


हम लोग जाने कैसे मसाफिर हैं वरना यार
दो चार - ढोकरों में संभल जाना चाहिये।
- शकील आजमी


सफर में अब के अजब तजरबा निकल आया
भटक गया तो रास्ता निकल आया।
- राजेश रेड्डी


मंजिलें भी जिद्दी हैं, रास्ते भी जिद्दी हैं,
देखते हैं कल क्या हो, हौंसले भी जिद्दी हैं।


निकले थे कहां जाने के लिये, पहुंचेंगे कहां, मालूम नहीं।
अब अपने कदमों को, मंजिल का निशां मालूम नहीं।।
- साहिर लुधियानवी


अदम की जो हकीकत है वो पूछो अहल-ए-हस्ती से
मुसाफिर को तो मंजिल का पता मंजिल से मिलता है।।
- दाग देहलवी


ये हम ही आ गये मुश्किले सफर मे,
बहुत आसां था मंजिल तक पहुंचना।।
- संजू शब्दिता




ट्रैवलिंग के ये शेर-शायरी, मुहावरे, गाने, वाक्य, विचार, Quotes, Status पढ़ कर यदि आपका ट्रिप पर जाने का मन कर रहा है, तो देरी किस बात की है, कार्यक्रम बनाओ, बैग पैक करो और घूमने निकल लो। 

आप भी यदि कोई यात्रा से संबंधित विचार, वाक्य, शेर-ओ-शायरी यहां पर बताना चाहें तो आपका स्वागत है। बताइये कोई नयी बात जो यहां पर बढ़ाई जा सके।

Manisha रविवार, 9 अगस्त 2020

स्मार्ट ट्रैवलर कैसे बनें?


गर्मियों का मौसम है और बच्चों की छुट्टियां शुरू हो चुकी हैं। 
स्मार्ट ट्रैवलर कैसे बनें?

जब से भारत में औसत आय में बढ़ोतरी हुई है और
विभिन्न वेबसाइटों द्वारा ऑनलाइन होटल और रेल या हवाई यात्रा बुक करने की सुविधा हुई है, भारत में पर्यटन को जबर्दस्त बढ़ावा मिला है। 

भारतीय अब अधिक यात्रायें करने लगे हैंं। ऐसे में स्वाभाविक है कि गर्मियों की इन छुट्टियों में लोग कहीं न कहीं घूमने का कार्यक्रम बना ही रहे होंगे। 

लेकिन घूमनें का कार्यक्रम बनाने के लिये कई बातों का ध्यान रख कर आप  स्मार्ट ट्रैवलर बन सकते हैं।  


स्मार्ट ट्रैवलर बनने के लिये प्रमुख रूप से इन बातों का  ध्यान रखें : 
  • पहले से ही रेल या हवाई यात्रा और होटल को बुक करें -  पहले से आरक्षण कराने से आपको पैसे की भी बचत होगी और यात्रा में किसी प्रकार की परेशानी भी नहीं होगी। 
  • कम सामान पैक करें -  अगर आप ज्यादा समान ले जा सकते हैं तो ठीक है, पर कम सामान ही ले जाना बेहतर है। आपको कोशिश ये करनी चाहिये कि सामान आधा और धन दुगना लेकर यात्रा करें। दूसरी जगह पर कुछ सामान खरीद पर कुछ नया किया जा सकता है। आजकल शॉपिंग भी यात्राओं का जरुरी भाग है।    
  • स्लीप मास्क और ईयर प्लग रखें -  ये खास तौर पर हवाई जहाज, रेल या आपके होटल के कमरे में काम आ सकते हैं।  
  • सूटकेस का आदर्श उपयोग करें -  कपड़ों को को तह करके रखने के बजाय लपेट कर रखें। मोजे और अंडरवियर इत्यादि को जूतों के अंदर रखा जा सकता है। कोई भी जगह खाली न छोड़ें।  
  • एक शॉल रखें -  यह हवाई जहाज, रेल या फिर शाम को घूमते समय में आपको हल्की ठंड से बचाने में काम आ सकता है। सामान में रखने में भी हल्का होता है और कम जगह घेरता है।  
  • बैग रखें - किचन में सेैडविच रखने वाल छोटा लिफाफा और अन्य प्रकार के कई छोटे छोटे बैगआपकी यात्रा का कुछ सामान रखने में काम आ सकते हैं। इनको किसी भी बैग में रखा जा सकता है। जूते और गंदे कपड़े इत्यादि भी इन्हीं प्रकार के बैगों में रखे जा सकते हैं।   
  • हवाई अड्डे और रेलवे स्टेशन से खाने का समान न खरीदकर अपना खाने का सामान लेकर जायें -  आप अपने पैसे को इस प्रकार बचा सकते हैं और साथ ही साथ अगर रेल या हवाई जहाज के देर से चलने की स्थिति में ये खाना का सामान आपके काम आ सकता है।
  • सामान को अलग अलग पैक में रखें - अगर आप यात्रा में एक से अधिक शहरों में जा रहे हों तो सामान को अलग अलग इस प्रकार पैक करें कि आप को अलग अलग शहरों में सामान एक ही पैक में मिल जाये और आप को सारा सामान ऊपर नीचे न करना पड़े और कई बार पैकिंग न करनी पड़े।  साथ ही अगर आप दो या अधिक लोग जा रहे हैं तो सामान को एक दूसरे के सामान के साथ साझा कर सकते हैं इससे अगर कोई बैंग खो जाये तो आपका कुछ सामान दूसरे के बैग में मिल जायेगा।    
  • कई पोर्ट वाला एक्सटेंन्शन यूएसबी और बिजली का बोर्ड लेकर चलें अपने मोबाइल, टैबलेट और कैमरा के लिये कई पोर्ट वाला एक्सटेंन्शन य़ूएसबी और बिजली का बोर्ड लेकर चलें। ये तो आजकल के डिजिटल जीवन में तो सबसे आवश्यक है। इसके अलावा अगर हो सके तो अतिरिक्त बैटरी और डाटा कार्ड भी रखें।   
  • घर छोड़ने से पहले अपने कागजातों की फोटोकॉपी करें - अगर आप विदेश में जा रहें हैं तो अपने पासपोर्ट की दो फोटोकॉपी  करके रख लें। इसमें से एक कॉपी हमेशा अपने पास रखें।
  • पुराना सामान वहीं छोड़े - अपने पुराने टी-शर्ट, अंडरवीयर, मोजे और इसी तरह की छोड़ने लायक पुरानी वस्तुओं को पहनने के बाद उसी जगह पर अगर आप छोड़ कर आयेंगे तो एक तो पुराने पहनने वाले कपड़ों से छुटकारा पायेंगे साथ ही साथ आपके बैग का वजन भी कम हो जायेगा। 
तो सोचना क्या? ऊपर लिखी बातों पर अमल करें और अपनी यात्री की तैयारी करें और स्मार्ट ट्रैवलर बनें।

Manisha मंगलवार, 31 मई 2016

कालका–शिमला खिलौना ट्रेन यात्रा


हाल ही हम लोग अपने परिवार के साथ शिमला की यात्रा पर गये थे, जिसके लिये हमने कालका से शिमला के लिये सुबह चलने वाली शिवालिक डीलक्स में आरक्षण कराया था। 94 किलोमीटर की खूबसूरत नजारों से भरपूर यात्रा लगभग 5 घंटे ले लेती है। इसका किराय अभी 280 रुपये प्रति वयस्क यात्री है तथा इसमें स्वागत चाय, अखबार तथा नाश्ता दिया जाता है। इस ट्रेन के कुछ चित्र देखिये (क्लिक करके आप बड़े रुप में देख सकते हैं)

Kalka Shimla Toy Train

Kalka Shimla Toy Train

Kalka Shimla Toy Train

Koti Station - Kalka Shimla Toy Train

Koti - Kalka Shimla Toy Train

Barog - Kalka Shimla Toy Train

Kalka Shimla Toy Train

Kanda Ghat - Kalka Shimla Toy Train

Tunnel - Kalka Shimla Toy Train

Tara Devi - Kalka Shimla Toy Train


Tara Devi Station - Kalka Shimla Toy Train

Tara Devi - Kalka Shimla Toy Train

Shimla Station - Kalka Shimla Toy Train

Manisha रविवार, 1 अगस्त 2010

अधिकांश ट्रैवल साइटें चोरी की सामग्री से चल रही हैं


कल हम लोगों नें बच्चों की गरमियों को दौरान कुछ पर्यटन स्थलों को भ्रमण के लिये इंटरनेट पर विभिन्न ट्रैवल साइटों से उन स्थानों के बारे में जानकारी लेने की कोशिश की । 

ऐसे में गूगल के माध्यम से किसी भी स्थान को खोजने पर आने वाली अधिकांश वेबसाइटों पर वही-वही जानकारी मिली। 

यहां तक की हर शब्द और वाक्य  सब वही के वही । 

ऐसा लगता ही गूगल ऐडसेंस का फायदा लेने के लोगों ने पर्यटन वेबसाइटें  खोल रखी हैं और इधर-उधर से जानकारी चुराकर साइट तैयार करके बना दी गई हैं । 

1-2 साइटों को छोड़कर किसी भी साइट से कोई नई बात पता नहीं लगी । किसी पर कोई विस्तृत जानकारी नहीं है। 

बस पर्यटन ब्लॉग ही हैं जिन पर कुछ अलग सी जानकारी है वर्ना अधिकांश ट्रैवल बेवसाइटें किसी भी स्थान की जानकारी के लिये चोरी की सामग्री से चल रही हैं। 

इस को देखने के लिये आप गूगल में किसी भी स्थान को खोजने को कोशिश करिये और प्रथम 10 परिणामों को ब्राउजर में खोलकर देखिये, दस में से आठ में आप को एक जैसी बात लिखी मिलेगी।

Manisha सोमवार, 18 मई 2009

पुरानी दुनिया की छुक-छुक रेलगाड़ी का आनंद


याद कीजिये बचपन के वो दिन जब रेलगाड़ी के सफर का मतलब आज की तरह तेज दौड़ती विद्युत या डीजल ट्रेन नहीं बल्कि कोयले से चलने वाली अपना ही एक आकर्षण लिये हुये छुक-छुक करती हुई एक रेलगाड़ी हुआ करती थी। आज भी सभी को वो छुक-छुक रेलगाड़ी का सफर और सफर के बीच सांसों से टकराती धीमे-धीमे जलते कोयले की महकती गंध तथा उस सबके बीच खिड़की वाली सीट पर बैठने का आनन्द याद आता है। 


Steam Rail Engine भाप वाला रेल इंजन
भाप वाला रेल इंजन



बच्चों को तो आज भी रेलगाड़ी की आवाज छुक-छुक बतायी जाती है। तो वापस कुछ ऐसा ही अनुभव लोगों को, खासकर स्कूली बच्चों को देने के लिए उत्तर रेलवे ने सफदरजंग रेलवे स्टेशन (नई दिल्ली) से रिंग रेलवे लाइन पर शनिवार को हैरिटेज रेल शुरू किया। 

रेल चलाने का मुख्य उद्देश्य उत्तर रेलवे द्वारा मनाए जा रहे हैरिटेज मंथ के तहत आने वाले पीढ़ी को बीते कल की कोयले से चलने वाली छुक-छुक रेलगाड़ी के अलावा रेल से जुड़े अन्य ऐतिहासिक महत्व से अवगत कराना है।

दिल्ली भ्रमण के लिए चलाई गई कोयले के इंजन से चलने वाली इस रेलगाड़ी के प्रमुख आकर्षण में से एक यह है कि यह इंजन वर्ष 1947 का बना है और वर्ष 1985 में इसे रिटायर कर दिया गया था। अब यह इंजन रेवाड़ी स्थित स्टीम इंजन शेड में ऐसे छह अन्य इंजन के साथ खड़ा होता है, जहां से इसे अधिकतर फिल्म की शूटिंग के लिए निकाला जाता है। इसके लिए फिल्मकारों से नब्बे हजार से एक लाख रुपये प्रतिदिन ली जाती है।

अंग्रेजों के कर्मचारियों के लिए बनाई गई जगह सफदरजंग रेलवे स्टेशन से इसका सफर शुरू होगा। इसके बाद यह मुसलमानों के पुराने शहर निजामुद्दीन, दिल्ली के नए विस्तार यमुनापार के इलाकों से होते हुए औरंगजेब के बेटों शाह और दारा की रियासतों शाह और दारा जिसे आज शाहदरा कहते हैं वहां जाएगी। वहां से यह असली दिल्ली कही जाने वाली पुरानी दिल्ली आएगी। उसके बाद इसका ठहराव नई दिल्ली होगा। इसके अलावा नई दिल्ली के रेलवे एक्सटेंशन के तौर पर बनाए गए तिलक ब्रिज से यह वापस सफदजंग रेलवे स्टेशन आएगी। 

सफदरजंग से इसका सफर शुरू होने का समय हालांकि सवा दस बजे सुबह रखा गया है लेकिन उसमें बदलाव होने पर उसकी घोषणा की जाएगी। सफर के दौरान जवाहर लाल नेहरू स्टेडियम, पावर हाउस आईटीओ, आनंद विहार रेलवे स्टेशन, यमुना नदी, कनाट प्लेस के इलाके भी रेलगाड़ी की खिड़की से नजर आएंगे।

तो अगर आप इन दिनों में दिल्ली या उसके आस पास हैं तो इस पुरानी दुनिया की (Old world charm) छुक-छुक रेलगाड़ी का आनंद लीजिये।

Manisha मंगलवार, 23 जनवरी 2007